Rama Navami 2023 : रामनवमी 30 मार्च शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व

Rama Navami 2023 :- हिन्दू पौराणिक कथाओं के अनुसार चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को हुआ था इसलिए इस दिन को लोग भगवान राम की जन्म तिथि के रूप में मनाते है। इस बार रामनवमी 30 मार्च 2023 गुरुवार को मनाई जाएगी रामनवमी का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि जानने के लिए इस लेख को ध्यान से पढें ।

रामनवमी क्यों मनाई जाती है ?

हिन्दू पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान राम ने चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को अयोध्या के राजा दशरथ जी घर जन्म लिया था। इसलिए चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की नवमी को भगवान राम के जन्म दिवस के अवसर पर रामनवमी के त्योहार धूमधाम के साथ देश भर में मनाया जाता है। इस बार रामनवमी 30 मार्च 2023, गुरुवार के दिन धूमधाम से मनाई जाएगी, इस दिन लोग अपने घर में दीपक जलाकर भगवान राम का जन्मदिन मनाते है और घर मे हवन और पूजापाठ भी करवाते है।

Rama Navami 2023 Shubh Muhurt

ऐसा माना जाता है कि भगवान राम का जन्म दोपहर में मध्यान्ह काल के दौरान हुआ था इसलिए मध्यान्ह काल मे पूजा अनुष्ठान करने के सबसे शुभ महूर्त माना जाता है।

राम नवमी मध्यान्ह महूर्त – 12:26 दोपहर

नवमी तिथि प्रारंभ – 29 मार्च रात 09:07 बजे

नवमी तिथि समाप्त – 30 मार्च रात 11:30 बजे

Rama Navami 2023 Date and Time

रामनवमी का पर्व इस बार 30 मार्च 2023, गुरुवार को मनाया जाएगा, रामनवमी का मध्यान्ह महूर्त सुबह 11 बजकर 11 मिनट से शुरु होकर दोपहर 1 बजकर 40 मिनट पर समाप्त होगा।

राम नवमी तिथि – 30 मार्च 2023 (गुरुवार)

राम नवमी 2023 मध्यान्ह महूर्त – सुबह 11 बजकर 11 मिनट से दोपहर 1 बजकर 40 मिनट

राम नवमी 2023 पूजा विधि (Rama Navami 2023 Puja Vidhi)

  • सबसे पहले रामनवमी के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें।
  • उसके बाद साफ और सुंदर वस्त्र धारण करें।
  • पूजा कक्ष की अच्छे से साफ-सफाई करें।
  • पूजा कक्ष में भगवान राम की मूर्ति या फ्रेम रखें।
  • भगवान को भोग में मिठाई, फल और प्रसाद का भोग लगाएं।
  • अब आरती थाल को अक्षत, चंदन और अगरबत्ती से सजा ले।
  • रामनवमी के दिन पवित्र ग्रंथ रामायण या अन्य पावन ग्रंथ का पाठ करें।
  • भगवान राम के साथ माता सीता, लक्ष्मण जी और हनुमान जी की पूजा अवश्य करें।
  • अब पूरी विधि-विधान से भगवान राम जी की आरती करें।
  • अंत मे भगवान से मनोकामना पूर्ण होने की प्रार्थना करें।

Rama Navami 2023 :भगवान राम की जन्मभूमि 

भगवान राम का जन्म वर्तमान में उत्तरप्रदेश के अयोध्या में हुआ था इसलिए अयोध्या को भगवान राम की जन्मस्थली माना जाता है। वर्तमान में लंबे समय की कानूनी लड़ाई के बाद भगवान राम का भव्य मंदिर का निर्माण अयोध्या में हो रहा है आए मंदिर का उदघाटन 14 जनवरी 20234 को होगा। अयोध्या नगरी से हिंदुओं की गहरी आस्था जुड़ी हुई है और लोग अयोध्या को धर्म स्थल के रूप में मानते है।

सारांश

भगवान राम हिन्दूओं की आस्था का मुख्य केंद्र माने जाते है, प्रत्येक त्योहारों पर भगवान राम की पूजा अवश्य की जाती है। विशेषकर रामनवमी और दीपावली के दिन भगवान राम की पूजा और अनुष्ठान किये जाते है। लोग दीपक और मिठाइया बांटकर भगवान राम को खुश करते है। कई लोग रामनवमी और दीपावली के दिन दान-धर्म करके भगवान को खुश करते है।

यह भी पढ़े :- 

Ladli Bahna Yojana MP 2023 फॉर्म भरने से पहले ये काम समय पर जरूर करले

 

Rama Navami 2023 FAQ’s

Q. रामनवमी क्यों मनाई जाती है?
Ans. भगवान राम के जन्मदिन को रामनवमी के रूप में माने जाता है।

Q. रामनवमी कब है ?
Ans. रामनवमी इस बार 30 मार्च 2023, गुरुवार को मनाई जाएगी।

Q. रामनवमी 2023 मनाने का शुभ महूर्त क्या है?
Ans. रामनवमी मनाने का मध्यान्ह शुभ महूर्त सुबह 11 बजकर 11 मिनट से दोपहर 1 बजकर 40 मिनट तक है।

Q. भगवान राम का जन्म कहाँ हुआ था?
Ans. भगवान राम का जन्म अयोध्या नगरी में हुआ था जो वर्तमान में उत्तरप्रदेश में है।

Q. भगवान राम की पूजा कैसे करें?
Ans. पूजा कक्ष की सफाई करके, स्न्नान करके और आरती की थाल सजाकर विधि- विधान से भगवान राम की पूजा करें।

ताजा जानकारी और इन्फॉर्मेशन के लिए हमारा वव्हाट्सएप ग्रुप और टेलीग्राम ग्रुप जॉइन करें।

Join Whatsapp Group