आज का पंचांग शुभमुहूर्त और दशहरा शस्त्र पूजा शुभमुहूर्त

आज का पंचांग शुभमुहूर्त

दिनांक – 24 अक्टूबर 2023
दिन – मंगलवार
विक्रम संवत् – 2080
शक संवत् – 1945
अयन – दक्षिणायन
ऋतु – शरद
मास – आश्विन
पक्ष – शुक्ल
तिथि – दशमी दोपहर 03:14 तक तत्पश्चात एकादशी
नक्षत्र – धनिष्ठा दोपहर 03:28 तक तत्पश्चात शतभिषा
योग – गण्ड दोपहर 03:40 तक तत्पश्चात वृद्धि
राहु काल – दोपहर 03:15 से 04:41 तक
सूर्योदय – 06:40
सूर्यास्त – 06:07
दिशा शूल – उत्तर दिशा में
ब्राह्ममुहूर्त – प्रातः 05:00 से 05:50 तक
निशिता मुहूर्त – रात्रि 11:59 से 12:49 तक
व्रत पर्व विवरण – विजयादशमी (पूरा दिन शुभ मुहूर्त), विजय मुहूर्त (दोपहर २-१८ से ३-०४ तक) (संकल्प, शुभारम्भ, नूतन कार्य, सीमोल्लंघन के लिए), दशहरा, अपराजिता- शमी वृक्ष-अस्त्र-शस्त्र – आयुध- वाहन पूजन, गुरु-पूजन, श्री माधवाचार्य जयंती
विशेष – दशमी को कलंबी शाक त्याज्य है ।ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

दशहरा शस्त्र पूजा शुभमुहूर्त

आज ही के दिन भगवान् श्री राम ने रावण का वध किया था। दशहरा बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक हैं। पुरे भारतवर्ष में हिन्दू धर्म को मानने वाले दशहरा पर्व को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। ऐसी मान्यता हैं कि आज के दिन आयुध पूजा करना शुभ होता हैं। दशहरा पर्व सनातन कालगणना के अनुसार अश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी को मनाया जाता हैं।

दशहरा शुभमुहूर्त

आज का अभिजीत मुहूर्त 11:50 से 02:45 pm तक हैं। आज पूजा करने के लिए दो शुभ मुहूर्त हैं। एक अभिजीत शुभमुहूर्त और दूसरा विजय शुभमुहूर्त हैं। आज का शुभमुहूर्त विजय दोपहर 02 बजे से 02:30 मिनट तक रहेगा। इन दोनों मुहूर्त में आप दशहरा शस्त्र पूजना कर सकते हैं।

आज के दिन प्रतीक के रूप में रावण का दहन किया जाता हैं। यह अधर्म पर धर्म की विजय का त्यौहार हैं। ऐसे में रावण के दहन को अधर्म की पराजय के रूप में स्वीकारा जाता हैं। आज का शुभमुहूर्त रावण दहन के लिए सूर्यास्त के समय 05 बजे के बाद हैं और यह शुभमुहूर्त लगभग दो घंटे तक रहेगा।

दीपावली से पहले किसानों को मिलेगी खुशखबरी, खाते में जमा होंगे 2000 रुपये