(आज से शुरू) युवाओं के लिए नई सरकारी योजना, मिलेंगे 8 हजार से 10 हजार रूपये

सरकारी योजना: सरकार ने युवाओं को रोजगार दिलाने और नई स्किल्स सीखने के लिए एक नई योजना की शुरुआत की है। यह योजना सीखो कमाओ (Learn and Earn) की थीम पर आधारित सरकारी योजना है। इस योजना के अंतर्गत प्रदेश के शिक्षित बेरोजगार युवा नई स्किल्स को सीखने के साथ-साथ कमाई भी करेंगे। इस योजना के अंतर्गत बेरोजगार युवाओं को 8,000 रूपये प्रतिमाह से 10,000 रूपये प्रतिमाह स्टाइपंड भी सरकार की ओर से प्रदान किया जायेगा।

सीखो कमाओ योजना क्या है

‘मुख्‍यमंत्री सीखो कमाओ योजना’ के तहत युवाओं को अलग-अलग सेक्‍टर्स में प्रशिक्षण देकर उन्‍हे रोजगार के लिए नई स्किल्स सिखाकर तैयार किया जाएगा. प्रशिक्षण के दौरान उन्‍हें मानदेय यानी स्‍टाइपेंड भी दिया जाएगा. इस योजना के तहत लगभग 700 कोर्स के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा. इस योजना के अंतर्गत कक्षा 12वीं से स्नातकोत्तर के युवा प्रशिक्षण ले सकेंगे। इसमें युवाओं को 8,000 रूपये 12 वीं वालों को, 8,500 रूपये आईटीआई, और 10,000 रूपये स्नातक स्तर के प्रशिक्षणार्थी को हर महीने स्टाइपेंड दिया जायेगा।

इस योजना के अंतर्गत फाईनेंशियल सर्विस एंड एंश्योरेंस, एयरोस्पेस एंड एविएशन, कृषि, टेक्सटाइल, टेलीकाम, आटोमोबाइल बैंकिंग, ब्यूटी एंड वेलनेस केमिकल कंस्ट्रक्शन, इलेक्ट्रानिक्स, फूड प्रोसेसिंग, हेंडिक्राफ्ट, हेल्थकेयर, आईटी, मैनेजमेंट, माइनिंग, टूरिज्म, फिजिकल एजुकेशन आदि विभिन्न 700 सेक्‍टर्स के लिए प्रशि‍क्षित किया जाएगा. यह ट्रेनिंग पूरी होने के बाद युवाओं को उनकी योग्यता के अनुसार स्थायी रोजगार देने का भी प्रयास किया जायेगा।

सरकारी योजना, क्या है पात्रता

  • आवेदक का मध्यप्रदेश का मूल निवासी हो.
  • आयु 18 से 29 वर्ष तक होनी चाहिए.
  • न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता- 12वीं, आईटीआई, डिप्लोमा, अथवा स्नातक या उच्च शिक्षा पास होना जरूरी है.
  • समग्र पोर्टल पर आधार आपकी ई केवाईसी होना जरूरी है.
  • पंजीकरण के लिए मोबाइल नंबर और जीमेल आईडी होना जरूरी है.
  • आपका  बैंक खाता आधार से लिंक हो और डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (DBT) सक्रिय हो.

आज से शुरू हो रही सीखो कमाओ योजना

मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह आज प्रदेश के युवाओं के लिए सीखो कमाओ योजना की शुरुआत करेंगे। इस योजना में कक्षा 12 वीं  से स्नातक कर चुके युवा लाभ ले सकेंगे। अभी तक जारी आंकड़ों के अनुसार इस योजना में प्रदेश के 8 लाख 69 हजार 675 युवा अपना पंजीयन करवा चुके है। आपको बता दे कि मध्यप्रदेश के मूल निवासी ही इस योजना का लाभ ले सकते है। इस योजना में विभिन्न योग्यता के अनुसार युवाओं को प्रशिक्षण के साथ ही 8 हजार से 10 हजार तक का मासिक स्टाइपेंड भी दिया जायेगा।